समाचार

सकारात्मक सोच – जो आपकी जिंदगी बदल सकती है!

Friend’s हम हमेशा एक कहावत सुनते हैं, जैसा हम सोचते हैं वैसा ही हम बन जाते हैं। ये कहावत पूरी तरह से सही हैं, क्योकि हमारा Mind एक वक्त मैं एक ही विचार कर सकता हैं Negative Or Positive

पर आप जब चाहे Negative Thinking को Positive Thinking में बदल सकते हैं। यदि आप Positive Thinking को पुरे निश्चय के साथ कई बार दोहराए की मुझे इस काम से डर नहीं लगता या कोई आशंका नहीं हैं मैं इसे बहुत अच्छे से पूरा करुगा या मेरा ये काम अवश्य सिद्ध होगा, तो आप निश्चत ही अपने काम में सफल हो जाऐगे।

कई बार तो किसी विषय या व्यक्ति के बारे में Negative Thinking किसी एक Incident के बाद बदल जाती है। आपको एकदम यह पता चलता है की आपकी किसी के बारे में सोच गलत थी यह बात इस उदाहरण से स्पष्ट होती है –

Negative Soch Kaise Dur Kare

एक व्यति एक प्रोग्राम में चीफ गेस्ट बनकर गया वहा के मनेजर ने उन्हें गेस्ट की पहचान बताई सभी ने उनको प्रणाम करते हुए हाथ मिलाया पर उसमे से एक गेस्ट ने उनकी तरफ देखा भी नहीं उसपर उस चीफगेस्ट को बहोत घुस्सा आया उन्होंने अपने दिमाग में उस गेस्ट के बारे मे Negative सोच बना ली पर उन्हें बाद में पता चला की वो गेस्ट न तो देख सकते है न ही सुन सकते है।

इसके बाद उनको ये अहसास हुवा की उनकी सोच उस गेस्ट के बारे मे कितनी Negative थी परिणाम स्वरूप एक पल में ही आप अपनी सोच को बदल सकते है हम लगातार खुदको नाराज करने वाली या न पसंद बाते करके Negative भावनाओ को जिन्दा रखते है।

पर एक अच्छी बात ये है की हम भावनाओ के नियम को लागु करके Negative विचारो को बदल सकते है और भावनाओ का नियम कहता है की “एक सशक्त भावना हमेशा एक कमजोर भावना पर हावी रहेगी और जिस किसी भावना पर ज्यादा जोर देंगे वो उतनी ही मजबूत होती जाएगी “.

हम जब आशंका, भय, संदेह, आदि के लिए अपने मन के द्वार खोल देते है जिससे हम भयग्रस्त होते है, इसी तरह हमारे मन में Negative Thinking होती है और जो भय को दीनबदिन मजबूत करती है, उत्साह और शक्ति से मनुष्य सदा सफल होता है पर इसका उल्टा निरुत्साही और दुर्बल मन के मनुष्य हर काम में असफल होते है।

हमारे दिमाग में Negative Thinking को आने से हम रोक नहीं सकते पर उन Negative Thinking को हम अपने से दूर तो रख सकते है ये कैसे करे हम आगे देखते है।

Positive thinking tips in Hindi

  • खुदको Negative Thinking से दूर रखे मतलब कभी भी Negative चर्चा न करे।
  • अनदेखा करे, मतलब ज्यादा सोचने से हमारे दिमाग में Negative Thinking भी आते है तो उसे अनदेखा करने के लिए बाहर जाये, गाना सुने, जो आपको अच्छा लगे वो करे।
  • अलग सोचे मतलब Negative Thinking को ज्यादा महत्त्व नहीं दे।

स्थिति को Positive नजर से देखो कल कोई और नइ सुबह नया और अच्छा लेके आएँगी यह सोच रखे और कोई भी हालात हो “मै सब कर सकता हु, मुझमे Talent है और मेरा खुद पर विश्वास है” इसका अहसास खुद को होने दो और फिर देखना कोई भी ताकद आपको हरा नहीं सकती।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *